कोरोना की तीसरी लहर की आशंका ने बिल्डरों के डुबोए 500 करोड़, ये हाल है

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना की पहली लहर जितनी खतरनाक थी, उससे ज्यादा दूसरी लहर साबित हुई। यदि तीसरी लहर इससे भयावह हुई तो क्या होगा। इसी आशंका ने बिल्डरों के करीब 500 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट अधर में लटका दिए हैं। दूसरी लहर में मौत का आंकड़ा भी अधिक था।

झारखंड के जमशेदपुर शहर के बिल्डरों का कहना है कि करीब डेढ़ साल पहले जमशेदपुर और आसपास में 16 टाउनशिप प्रोजेक्ट सहित लगभग 100 हाउसिंग प्रोजेक्ट शुरू हुए थे, आज बंद पड़े हैं। पिछले साल लॉकडाउन की अवधि ज्यादा थी, इसके बावजूद बुकिंग की इंक्वायरी आ रही थी। इसके बाद जैसे ही स्थिति सामान्य हुई, करीब 20 फीसद तक बुकिंग हो भी गई। इस बार तो जैसे सन्नाटा पसरा हुआ है। इसमें तो इंक्वायरी भी नहीं आ रही है। बिल्डरों के कार्यालय में रखे फोन शांत पड़े हैं। पहले आई इंक्वायरी में जब कुछ लोगों से बिल्डरों ने संपर्क किया, तो उन्होंने कहा कि हमारे पास सीमित पैसा है। यदि इसे भी निवेश कर दिया और तीसरी लहर में संक्रमित हो गया तो अपने इलाज के लिए भी पैसा कहां से लाएंगे। जब तक स्थिति पूरी तरह सामान्य नहीं होती, हम कोई घर नहीं लेंगे।  बिल्डरों का कहना है कि यह मूल रूप से मजदूरों का शहर है। अधिकांश आबादी कंपनी कर्मचारियों की है। यही लोग फ्लैट-डुप्लेक्स खरीदते हैं। जाहिर सी बात है कि इनके पास सीमित पैसा होता है। इनका डर वाजिब भी है। अमूमन इसी तरह की बातें कई निवेशकों से सुनने को मिल रही हैं। ऐसे में हम हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं, क्या करें।

ये कहते बिल्डर

 

  • फिलहाल जमशेदपुर और आसपास में 25 प्रतिशत प्रोजेक्ट में थोड़ा बहुत काम चल रहा है। लेबर की भी कमी चल रही है, लेकिन सबसे बड़ा संकट खरीदारों का है। इस वर्ष नहीं के बराबर बुकिंग हुई, जिससे करोड़ों रुपये फंस गए हैं।

     – सुरेंद्र पाल सिंह टीटू, अध्यक्ष, बिल्डर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया, जमशेदपुर चैप्टर

  • झारखंड सरकार ने तो पूरे कोरोना काल में बिल्डरों को बहुत सुविधा दी। एक दिन भी कंस्ट्रक्शन वर्क नहीं रोका, लेकिन खरीदार ही इतने डर गए हैं कि हमारा धंधा चौपट हो गया है। जब तक पुराने प्रोजेक्ट बुक नहीं हो जाते, हम नया प्रोजेक्ट कैसे शुरू कर सकते हैं। सारी पूंजी फंसी हुई है।

        -शिबू बर्मन, पूर्व अध्यक्ष, बिल्डर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया, जमशेदपुर चैप्टर

इन इलाकों में फंसे टाउनशिप प्रोजेक्ट

 

  • मानगो : 3
  • गोविंदपुर : 3
  • बारीडीह : 4
  • टेल्को : 2
  • आदित्यपुर : 5

Source: Dainik Jaagran


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Join The Discussion

Compare listings

Compare